शनिवार, 21 मई 2022

हिन्द की रूह !

जिस तरह डूबता हुआ सूरज
आसमाँ में लालीमा भर देता है।
बुझता हुआ दीपक भी, अपनी
आभा से घर रौशन कर देता है।  

ठीक उसी तरह टूटने से पहले
जाग उठती है हिन्द की रूह !
हर आवाज़ नारो में तबदील अब। 
हर तरफ लोगों का हुजूम, शामिल सब। 

ज्यों ज्यों झूठ का नकाब हटता है
उमीदें टूटती है, ऐतबार घटता है। 
और लोगो का गुस्सा सैलाब बनता है 
मज़लूमो का जुर्मवालों पे हिसाब बनता है। 

दिशा न दी गई, तो ये ताक़त ज़हर है। 
हर किसी पे ये अज़ाब, कहर है।
इस भट्टी में तप कर ही निखारना होगा। 
अंकुरिटी होना है ? बीज बन बिखरना होगा।  

वक़्त ऐसे ही दौर से गुज़र कर बदलता है। 
कुछ नया बनने से पहले , हर शय  जलता है। 
टूटते है ऊँचे  दरख़्त, तिनको से चमन बनता है।  
जैसे हर बार टूटता है हिन्द, फिर नया वतन बनता है।


बुधवार, 16 मार्च 2022

90 और तुम्हारे पाप

बाॅलीवूडी इश्क मुहौब्बत
क्रीकेट बुखार से मीडीया भरदी थी।
तुमने रखी आँखे चकाचौंध, रहमत।
काशमीरी झुलसती आहें, नज़रअंदाज़ करदी थीं?

रलिफ, चलिफ,गलिफ के नारे
मसजिदों से गूँजते, वो तड़पते सुनते रहे । 
और हम बेख़बर से, बाखुशी के मारे
अपने (2) पसंदीदा ख़ान चुनते रहे । 

साल गुज़र गए दो करीब
सुद ली ना थी अबतक किसी ने
याद आए भी तो नवाज़-ए-गरीब,
बाबरी क्या गिरी, मुसलमाँ आज भी पीटते सीने ।

ये 90 का दर्द, हर 19 जनवरी
दूना होता चला गया, ऊमीदें सर पटकती रही। 
कभी माचिस जलाया, कभी मनाई 14 फरवरी। 
अनसुनी चींखें, दील्ली में भटकती रही ।  

हूरो के दर पे दस्तक को
हूरीयत, काशमीर में उबालती रही।
फारूख, ग़ुलाम, मुफ्ती महबूबा सब को,
भारत की गरीब जनता पालती रही ।।

90 के दशक से आज तक
किसी की चुप्पी, कीसी का झूठ। 
अन्नतनाग से, इस्लामाबाद तक, 
तुम्हारे पाप के सिलसिले अटूट ।